Lucknow me Ghumne ki Jagah in Hindi : बारिश के मौसम में घूमने में की जगह

लखनऊ, उत्तर प्रदेश के प्रमुख शहरों में से एक है। इस शहर को आमतौर पर “नवाबो का शहर” के नाम से जाना जाता है। ये शहर मुगल विरासत और भारतीय संस्कृति का मिश्रण है। लखनऊ के ऐतिहासिक इमारत, बाजारें, खाना-पीना और सांस्कृतिक कार्यक्रमों इस शहर को अलग ही पहचान देते हैं। लखनऊ एक ऐसा शहर है जहाँ आपको तहज़ीब, अदब और अलीशान महल का अनुभव मिलेगा। यहां के लोगों का  मुस्कुराता चेहरा आपको हमेशा याद रहेगा।.

Lucknow me Ghumne ki Jagah

लखनऊ शहर  पर्यटकों के Ghumne Ki Jagah  में से एक है। मानसून के दौरान यहां घूमने का मजा चार गुना बहेतर  हो जाता है। बरसात के दिनों में पुराने और नए लखनऊ में ऐसी कई जगहें हें घूमने के लिए जहां आप एक यादगार पल जी सकते हैं।

इस लेख में लखनऊ में घूमने की जगह कौन-कौन सी है? Lucknow me Ghumne ki Jagah, लखनऊ में क्या प्रसिद्ध है, लखनऊ के दर्शनीय स्थल, लखनऊ कैसे पहुंचे उसके में विस्तार से जानते है।

 

लखनऊ का इतिहास – Lucknow History in Hindi

  • लखनऊ शहर का इतिहास रामायण काल से जुड़ा हुआ है। भगवान श्री राम को विरासत मै मिला हुआ था,ये शहर उन्हों ने अपने भाई लक्ष्मण को दे दिया था , इसलिए इसे कुछ लोग लखनपुर कहते थे,जो फिर मुगल साम्राज्य मै बदल कर लखनऊ कर दिया गया।
  • अवध के शासक ने लखनऊ को अपनी राजधानी बनाकर बहुत महान और समृद्ध शहर बना दिया था ,बाद मैं कुछ समय बाद अंग्रेजों ने अपनी चालाकी से बिना जंग किए आपने ब्रिटिश साम्राज्य में मिला लिया था, सन् 1850 में अवध के अंतिम नवाब वाजिद अली शाह ने ब्रिटिश निवेदन स्वीकार कर ली।

Chhota Imambara(छोटा इमामबाड़ा) –Lucknow me Ghumne ki Jagah

लखनऊ के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है छोटा इमामबाड़ा है, इमामबाड़ा का निर्माण 1837 में वज़ीर अली शाह ने करवाया था। ये इमरातें मुगल शैली में बनी हुई है और इसकी सजावट और संकृति नजर आती है। छोटा इमामबाड़ा में आपको इमारतें, बगीचे और मस्जिद दिखाई देगी। इस Ghumne ki Jagah पर आपको ईद के मौके पर बहुत ही खूबसूरत जलवा दिखता है। छोटा इमामबाड़ा का छत और दीवारें बहुत ही खूबसूरत है और इस जगह का महल बेहद शांत और आलीशान है। यहां पर आपको मौजूद चीज देख कर बहुत खुशी होगी और आप इस जगह का अनुभव हमेशा याद रखेंगे।

छोटा इमामबाड़ा की खूबसूरत शाम को और भी बढ़ती जाती है ,जब इसकी रोशनी बहुत ही खूबसूरत दिखती है। इस  जगह का माहौल हमेशा शांत रहता है और यहां के लोगों का स्वागत आपको बेहद प्यार से किया जाता है। छोटा इमामबाड़ा का सारा माहौल आपको ऐसे महसूस करवाता है जैसे कि आप मुगल साम्राज्य के दौर में हैं और आपको उस समाज की तहजीब और सजावट का अनुभव मिल रहा हो।

Bara Imambara(बड़ा इमामबाड़ा) 

लखनऊ का एक और प्रमुख पर्यटन स्थल है बड़ा इमामबाड़ा। इस इमामबाड़ा का निर्माण 1784 में नवाब आसफ-उद-दौला ने कारवाया था। ये इमरातें भी मुगल शैली में बनी हुई है और इसकी खूबसूरत और सज़ावत काफी प्रशंसानिया है। बड़ा इमामबाड़ा का एक खूबसूरत भूल भुलैया भी है जहां पर बहुत सारे लोग आते हैं भूलभुलैया मजे लेने के लिए। इस भूल भुलैया के अंदर आपको कई तरह के रास्ते मिलेंगे और आपको मज़ा करने के लिए बहुत सारे सुराग भी मिलेंगे।

बड़ा इमामबाड़ा के अंदर आपको बहुत सारी इमरातें नजर आएंगी जैसे कि रूमी दरवाजा, असफी मस्जिद, भूल भुलैया और बावली। यहां पर आपको बहुत खूबसूरत झूमर और टांके भी नजर आएंगे। बड़ा इमामबाड़ा का छत और मीनारें बहुत ही खूबसूरत है और इसका महल भी बहुत ही शांत और अलीशान है। यहां के लोगों का स्वागत बहुत ही तहजीब से किया जाता है और यहां के खाने की दावत का अनुभव करना आपके लिए बहुत ही खास होगा.

लखनऊ के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से बड़ा इमामबाड़ा ऐसी जगह है जहां आपको बहुत सारी चीजें देखने को मिलेंगी और आपको यहां का अनुभव हमेशा याद रहेगा.

 

Chattar Manzil(छतर मंजिल)

 

लखनऊ की विरासत का एक और प्रसिद्ध स्थल ‘छतर मंजिल’ है, और लखनऊ के गोमती नदी के तट पर मौजूद है,जो शाह नजफ इमामबाड़ा के पास स्थित है। छत्तर मंजिल का निर्माण अवध के नवाबों ने करवाया था। ये इमारत अवध की मुगल शैली में बनी है और इसका निर्माण कार्य 1780 में हुआ था। छतर मज़िल का निर्माण  नासिर-उद-दीन हैदर के शासनकाल में पूरा हुआ था। इस ऐतिहासिक इमारत की वास्तुकला में भारतीय और यूरोपीय  शैली दोनों का सुंदर मिश्रण है। छतर मंजिल इसलिए कहा जाता है , क्यू की उसका गुंबट छाता के आकार का है। 

छतर मंज़िल के अंदर की साइड मै एक म्यूज़ियम भी है जहाँ पर आपको नवाबों की समय की वास्तु देखने को मिलेगी। यहां पर आपको पुराने किले और दौलत के नक्शे, खिलोनो, तख्ते, दस्तर-ख्वान और दूसरे ऐसे वस्तु देखने को मिलेंगे जो आपने कभी देखी भी नही होगी और ये सब आपके दिल को छू जाएंगे।

छत्तर मंजिल लखनऊ की विरासत और तहज़ीब का एक अहम हिस्सा है। इस इमारत की तहज़ीब, ख़ुशबू और सज़ावट आपको अवध की मुगल शैली का अनुभव दिलाएगी। छतर मंजिल के दर्शन के लिए प्रवेश निशुल्क हैं,और रविवार को छोड़ के 6 दिन खुला रहता है।

Bhool Bhulaiya(भूल भुलैया) 

लखनऊ की शान है ‘भूल भुलैया’, जो बड़ा इमामबाड़ा के भीतर स्थित है।  लखनऊ में स्थित 200 साल पुरानी विश्वप्रसिद्ध भूल भुलैया हमेशा पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र रहती है. इस भूल भुलैया में चारों दिशा मै चार रास्ते हैं, उसमें से तीन गलत और एक सही सलामत रास्ता है. जबकि इसकी 20 फीट मोटी दीवारें  है. भूल भुलैया को एक ऐसी भूल-भुलैया के रूप में जाना जाता है,जहाँ आप आसनी से खो सकते हैं।भूल भुलैया का निर्माण लखनऊ के पहले नवाब, आसफ-उद-दौला ने करवा था। ये इमारत एक बहुत ही विशाल शैली में बनी है और उसमें खास बात ये है की संकरी दिवारे होने के बाद भी आपको अंदर घुटन का एहसास नहीं होता है।

भूल भुलैया खुलने का समय सुबह 6 बजे है, शुरू होता है और इसे शाम 5 बजे बंद किया जाता है.इसका टिकट एक व्यक्ति 300 रुपये है. ट्यूरिस्ट की पहली पसंद है।

Hazratganj Market(‘हजरतगंज मार्केट)

लखनऊ के दिलों की धड़कन है ‘हजरतगंज मार्केट’, जो लखनऊ का एक मुख्य शॉपिंग स्थल है। ये बाजार लखनऊ के शहर के सबसे प्रसिद्ध और महत्त्वपूर्ण स्थलों में से एक है। हजरतगंज मार्केट की खूबसूरत, तहजीब और शहर की आधुनिकता को आप इसको देख कर समझ सकते हैं।

हजरतगंज मार्केट एक ऐसा स्थल है जहां आपको कोई तरह के माध्यम से शॉपिंग करने का अवसर मिलता है। यहां पर आपको चिकन और जरदोजी के काम से बने कपड़े, हाथ का बना आभूषण, कीमती आभूषण और अलग-अलग तरह के खान पीने के आइटम मिलते हैं।

लखनऊ शहर मै घूमने जाने का सबसे  महत्वपूर्ण समय कोनसा है ? – In Hindi 

अगर आप लखनऊ शहर घूमने जाने की योजना बना रहे हैं, तो आपको बता दें कि यहां घूमने जानें का सबसे अच्छा समय  अक्टूबर से मार्च का समय  अच्छा है। और दिसंबर और जनवरी थोड़ा मटमैला हो सकता है, जिसका मतलब है कि ट्रेनें और विमान उड़ानें देरी से हो सकती है। हालांकि, जनवरी का मौसम अछा और Ghumne Ki Jagah की यात्रा करने के लिए काफी अच्छा है। यहाँ गर्मियों का मौसम सामान्य रूप से बहुत गर्म होता है,इसलिए इस मौसम में यात्रा करने से बचना चाहिए। July -Sptember के दौरान लखनऊ का यात्रा करना अच्छा होता है ।

यह भी पढ़े ; Top 5 –Delhi me Ghumne ki Jagah in Hindi

यह भी पढ़े ; Jaipur Ghumne Ki Jagah in Hindi

मुग़ल के शहर यानी लखनऊ  कैसे पहुंचें ?–  In Hindi

उत्तर प्रदेश की राजधानी होने के कारण, लखनऊ में सभी परिवहन माध्यमों से अच्छी तरह पहुंचा जा सकता है l  भारत के सभी बड़े शहरों जैसे दिल्ली, मुंबई, अहमदाबाद, बेग्लूर, चेन्नई से सीधी उड़ानें लखनऊ को जोड़ती हैं। लखनऊ का रेलव स्टेशन देश के सभी बड़े शहरों  से भी जुड़ा हुआ है। लखनऊ का सड़क मार्ग काफी अच्छा है और नई दिल्ली और यूपी के अन्य प्रमुख हिस्सों से भी बसें उपलब्ध हैं। लखनऊ पहुँचने के लिए आस-पास के शहरों से प्राइवेट टेक्सीस भी किराए पर मिल जाती  हैं।

लखनऊ का Locetion

Conclusion

लखनऊ, उत्तर प्रदेश का एक प्रसिद्ध शहर है, जहाँ पुराने इतिहास और संस्कृति का निर्माण देखने को मिलता है। यहां के अनोखे व्यंजन और खास तरह के कपड़े आपको आकर्षित कर देते हैं। Lucknow me Ghumne ki Jagah जैसे बड़ा इमामबाड़ा, छोटा इमामबाड़ा, रूमी दरवाजा, छतर मंजिल और भूल भुलैया ये सब घूमने की जगह है और , लखनऊ के बाजार जैसे हजरतगंज मार्केट आपको शॉपिंग करने का अच्छा प्लेस प्रदान करता है। लखनऊ की भाषा और संस्कृति एक ऐसी अलग पहचान है, जो यहाँ के लोगों में दिखती है। यहां के अनुभव आपको हमेशा याद रहेगा। इसीलिये, लखनऊ एक प्रसिद्ध और टूरिस्ट लोगों का मनपसंद शहर है, जहां आपको प्रकृति और इंसान का साथ-साथ देखने को मिलता है। आप जरुर विजिट करिए और इस लेख को आपके दोस्तो को शेर करिए।

जय हिंद।

 

share this ;

2 thoughts on “Lucknow me Ghumne ki Jagah in Hindi : बारिश के मौसम में घूमने में की जगह”

Leave a Comment